Animal Movie Review
0 3 mths
Spread the love

जब शहीद कपूर अभिनीत फिल्म कबीर सिंह ने बॉक्स ऑफिस पर खूब पैसे कमाए थे तब बहुत सारे फिल्म क्रिटिक ने इसे बहुत ज्यादा वॉयलेंट फिल्म बताया था। हालाँकि फिल्म को युवा दर्शकों ने खूब पसंद भी किया था। कबीर सिंह के दौरान ही इस फिल्म के निर्देशक संदीप रेड्डी वांगा ने कहा था की ये तो कुछ भी नहीं है, उनकी आने वाली फिल्म में वो असली एक्शन और वायलेंस दिखाएँगे। अब जब संदीप ने अपनी नई फिल्म एनिमल के साथ थियेटर्स में वापसी किया है तो वे अपनी कही बातों पर बिलकुल करे उतरते नजर आ रहे हैं।

रणबीर कपूर के जबरदस्त अभिनय से सजी फिल्म एनिमल का वायलेंस आपको डरायेगा। बॉलीवुड में तो शायद ये फिल्म अपनी तरह का पहला होगा जिसमे इस लेवल का वायलेंस देखने को मिल रहा है।

क्या है एनिमल फिल्म की कहानी?

फिल्म की कहानी का प्लाट रणविजय नाम के कैरेक्टर के इर्द गिर्द घूमता है जिसे निभाया है रणबीर कपूर ने। रणविजय के पिता बलबीर सिंह (अनिल कपूर) बड़े बिजनेस टायकून हैं जो अपने व्यस्त वर्कलाइफ के कारण अपने बेटे को समय नहीं दे पाते जिसकी वजह से रणविजय हमेशा मायूस रहता है। हालाँकि बड़े होने पर विजय अपने पिता को बेटे के प्यार की कमी न होने दे इस सोच के साथ आगे बढ़ता है। पर बचपन से पिता द्वारा नकारे जाने के कारण रणविजय हिंसक हो जाता है। इसी तरह कहानी में रणविजय पिता पर हमला होता है और फिल्म में रणविजय को अपने पिता पर हुए हमले के बदले का असली मकसद मिल जाता है। इसके बाद तो रणविजय ने जो ग़दर काटा है वो तो सनी देओल ने भी पाकिस्तान में तारा सिंह बन कर नहीं काटा। फिल्म की कहानी में बहुत ज्यादा नयापन नहीं है पर एक अच्छा निर्देशक पुरानी कहानियों को भी एकदम फ्रेश बना कर आपके सामने प्रस्तुत कर सकता है और संदीप रेड्डी वांगा ने इस फिल्म में ऐसा ही कुछ किया है।

फिल्म के कई दृश्य अनकन्वेंशनल हैं, कभी कभी इन्हें देख कर आपको घिन्न आएगी। इन दृश्यों पर बहुत सारे फिल्म क्रिटीक नौक भौं सिकोड़ रहे हैं। क्रिटिक्स का कहना है की फिल्म औरतों के खिलाफ है, फिल्म की हर महिला चरित्र पर पुरुषों का प्रभुत्व देखा गया है। बहरहाल, फिल्म का नाम एनिमल है, फिल्म का प्लाट ही ऐसा है जिसमे पुरुष चरित्रों को आदर्श नहीं दिखाया गया है, उन्हें एनिमल बताया गया है अब एनिमल तो कुछ भी कर सकता है न। समस्या तब होती जब फिल्म का नाम मानव या आदर्शवादी मानव होता तब अगर फिल्म में पुरष कैरेक्टर्स महिला कैरेक्टर्स पर डॉमिनेट करते तब शायद फिल्म में खामी मानी जाती।

ये भी पढ़ें: कौन है “अर्जन वैली” जो रणबीर कपूर की फिल्म एनिमल में मचा रहा है कहर?

सेंसर बोर्ड की तरफ से एनिमल फिल्म को पहले ही एडल्ड सर्टिफाइड किया गया है। इसका मतलब है की इसे बच्चे नहीं देख सकते। साथ ही इसे परिवार के साथ भी न देखें तो अच्छा। इस फिल्म को अपने हमउम्र दोस्तों के साथ जरूर देखा जा सकता है और एक अच्छी फिल्म का मजा लिया जा सकता है।

कैसे हैं फिल्म के कैरेक्टर्स?

फिल्म का मुख्य कैरेक्टर रणविजय पूरी फिल्म को डॉमिनेट करता है, वो जब जब स्क्रीन पर नजर आता है तब तब फिल्म गतिशील नजर आती है शायद यही कारण है की 3 घंटे 23 मिनट की लंबी फिल्म कभी भी बोझिल नहीं लगती। बॉबी देओल के चरित्र को काम स्क्रीन टाइम मिला है पर उन्होंने पूरी तरफ से धमाल काम किया है। फिल्म ख़त्म होने के बाद ऐसा लगता है की बॉबी देओल के चरित्र को थोड़ा और टाइम मिलता तो मज़ा और ज्यादा होता। बलबीर सिंह के कैरेक्टर में अनिल कपूर ने अच्छा काम किया है वहीं रणविजय की पत्नी के रोल में रश्मिका मंदन्ना भी जमी हैं। इसके अलावा कला वेब सीरीज से चर्चा में आयीं तृप्ति डिमरी सरप्राइज के रूप में फिल्म में आई। उनका कैरेक्टर बहुत छोटा पर दर्शनीय है। ऐसा लगता है की अगर इस फिल्म सिक़्वेल बनेगा तो इसके चरित्र को और ज्यादा उभार मिलेगा।

अगर आपको कबीर सिंह पसंद आई थी और आप वॉयलेंस फिल्मों को जजमेंटल हुए बिना देखना पसंद करते हैं तो एनिमल आपके लिए एक जबरदस्त फिल्म का अनुभव साबित होगी। यह फिल्म एक अलग तरह की एक्शन का एक्सपीरिएंस कराएगी। वहीं अगर आपको फिल्म से कोई ज्ञान और सन्देश प्राप्त करना है या आदर्शवादी कैरेक्टर्स देखने हैं या फिर आपको ज्यादा वायलेंस पसंद नहीं है तो आपको यह फिल्म नहीं देखनी चाहिए।

Somewhere in news

The secret of Akshay Kumar's fitness is Desi Mudgal Kantara Chapter 1 Rekha Boj World Cup Cricket 2023 Dunki Movie sachin tendulkar reached ahmedabad for India Australia World Cup Final Match Cricket World Cup 2023 Final Toss