छठ पूजा: मुस्लिम मोहल्लों को लेकर बिहार पुलिस ने किया था अलर्ट, अब हुआ विवाद, पढ़ें पूरी खबर

  • Home
  • छठ पूजा: मुस्लिम मोहल्लों को लेकर बिहार पुलिस ने किया था अलर्ट, अब हुआ विवाद, पढ़ें पूरी खबर
Chhath Puja Bihar Police was alerted to Muslim neighborhoods, read full news

आज पूरे देश में छठ पूजा (Chhath Puja) का आखिरी दिन धूम धाम से मनाया गया। चार दिन चलने वाला यह पर्व आज सुबह पारण के साथ संपन्न हुआ। इस बार छठ पूजा को लेकर बिहार (Bihar) में मधेपुरा (Madhepura) जिले के प्रशासन ने मुस्लिम मोहल्लों को लेकर एक अलर्ट जारी किया था। इस अलर्ट में छठ पूजा करने वालों को ‘मुस्लिम समुदाय के अराजक तत्वों’ से सतर्क रहने की बातें साफ़ साफ़ लिखी गई थीं।

छठ पूजा से पहले ही मधेपुरा जिले के डीएम नवदीप शुक्ला ने यह अलर्ट जारी किया था। इस अलर्ट को लेकर स्थानीय पुलिस और प्रशासन को भेजे गए आदेश में उन्हें ‘मुस्लिम समुदाय के अराजक तत्वों’ की ओर से सांप्रदायिक तनाव पैदा करने की कोशिशों को लेकर सतर्क रहने को कहा गया था। बता दें की पिछले 31 अक्टूबर के दिन इस अलर्ट पर कुछ लोगों द्वारा आपत्ति उठाई गई जिसके बाद जिले के डीएम ने कहा है कि “जिस तरह की सूचना उनके पास थी, उसके आधार पर ही यह आदेश जारी किया गया।”

madhepura chhath puja alert

डीएम द्वारा जारी किये गए इस अलर्ट में लिखी बातों पर गौर करें तो इसमें कहा गया था कि, “छठ घाट तक व्रतियों के आने-जाने वाले मार्गों में पड़ने वाले मुहल्लों, विशेषकर मुस्लिम मुहल्लों में नाली का पानी गिराए जाने के कारण तनाव उत्पन्न होता है। कभी-कभी छठ घाट पर बहुत अधिक भीड़ में घाट पर बनाए गए कोशी टूट जाने के कारण भी समस्या उत्पन्न होती है।”

इसके अलावा इस आदेश में लिखा था कि “मुस्लिम समुदाय के शरारती तत्वों द्वारा छठ व्रतियों के परिजनों तथा उनके साथ की महिलाओं के साथ छेड़खानी किए जाने पर तनाव उत्पन्न होता है। छठ व्रतियों तथा उनके परिजनों पर छींटाकशी, फब्तियाँ, फब्ती कस देने के कारण भी कानून-व्यवस्था की समस्या उत्पन्न होती है।” मृत जानवरों से साम्प्रदायिक तनाव बढाए जाने की बात भी इस आदेश में कि गई थी। इस बाबत लिखा गया था कि “शरारती तत्व सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने के मकसद से मृत जानवरों के माँस या फिर उनके शव के दूसरे हिस्सों को तालाबों और नदियों में डाल सकते हैं।”

मधेपुरा जिला प्रशासन ने इस विषय पर कहा कि साल 2016 में दशहरा और मुहर्रम के वक़्त सांप्रदायिक तनाव कि घटनाएँ देखने की मिली थी इसी को लेकर छठ पूजा के दौरान विशेष सावधानी बरती जा रही है।

ये भी पढ़ें: कभी माँ सीता ने की थी छठ पूजा, अब छठ पूजा के दौरान ही आएगा राम जन्मभूमि पर बड़ा फैसला!

ये भी पढ़ें: आखिर कैसे पिछले एक से दो दशक में रीजनल से ग्लोबल हो गई छठ पूजा?

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *