10 दिनों में अयोध्या समेत 4 बड़े मुद्दों पर सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला, जानें कौन कौन से हैं ये मुद्दे?

  • Home
  • 10 दिनों में अयोध्या समेत 4 बड़े मुद्दों पर सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला, जानें कौन कौन से हैं ये मुद्दे?
Supreme court's decision will come on 4 big issues including Ayodhya in next 10 days, will change country's direction

आने वाले 10 से 12 दिन देश के लिए बहुत अहम माने जा रहे हैं। 4 नवंबर से सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) 4 ऐसे बड़े मुद्दे पर फैसले सुनाना शुरू करेगा जिसपर पूर्व में बहुत विवाद रहा है। इन फैसलों के आने के बाद देश के सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक क्षेत्र पर इसका गहरा प्रभाव पड़ने की भी संभावना जताई जा रही है। इन फैसलों में सबसे बड़ा और पुराना मामला है अयोध्या राम मंदिर (Ayodhya Ram Temple) का। यह मामला 1858 से शुरू हुआ और भारतीय न्याय प्रक्रिया में यह मामला 1885 से चल रहा है। एक सदी से भी ज्यादा चले इस विवाद की परिणिति अगले दस दिनों में होने वाली है। इस पर आने वाला फैसला ऐतिहासिक होगा जिसे आने वाली पीढियां हमेशा याद करेंगी।

अयोध्या राम मंदिर के अलावा चीफ जस्टिस गोगोई (Chief Justice Gogoi) तीन और अहम मामलो की अध्यक्षता कर रहे हैं। गोगोई इसी महीने की 17 तारिख की रिटायर भी होने वाले हैं इसीलिए इन तीन मामलों में भी फैसला आने की प्रबल संभावना है। ये मामले भी अयोध्या मामले की तरह ही देश के लिए बड़े अहम हैं।

इनमे से एक मामला है सबरीमाला अयप्पा मंदिर (Sabarimala Ayyappa Temple) में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति प्रदान किये जाने का। सबरीमाला मंदिर को लेकर पिछले कुछ सालों में बहुत विवाद रहा है इसी वज़ह से इस पर आने वाले निर्णय से दक्षिण भारतीय राजनीति की दिशा और दशा निश्चित होगी।

अयोध्या और सबरीमाला (Ayodhya and Sabarimala) के अलावा गोगोई की अध्यक्षता में राफेल सौदे (Rafale Deal) में सरकार को क्लीन चिट देने वाले निर्णय और सीजेआई को आरटीआई के दायरे (CJI Under the Purview of RTI) में लाने वाली याचिका पर भी फैसला आना है। इन दो मामले को लेकर भी पिछले कुछ सालों में खूब राजनीति देखने को मिली है। अगर बात राफेल की करें तो पिछले लोकसभा चुनावों में विपक्ष ने इसे मुख्य मुद्दा बना लिया था और राहुल गांधी हर मंच से पीएम मोदी को चोर कहते नजर आते थे। हालांकि चुनाव परिणामों में राफेल का मुद्दा गौण दिखा और भाजपा 2014 से भी ज्यादा सीटें जीत कर सत्ता पर काबिज हुई थी।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *