हार्दिक पटेल को एक शख्स ने मारा झन्नाटेदार चांटा, राहुल गाँधी के साथ भी दिखा है शख्स

Spread this

जी हाँ नेता जी ये लोकसभा चुनाव 2019 है हुजूर, सतर्क रहिएगा की कब, कौन, कहाँ किस बात पर कूट दे। दिल्ली में गुरुवार के दिन बीजेपी प्रवक्ता और राज्यसभा सदस्य जीवीएल नरसिम्हा राव पर जूता फेंकने की घटना के दूसरे दिन, यानी आज गुजरात कांग्रेस के धुरंधर नेता हार्दिक पटेल को एक आदमी ने मारा झन्नाटेदार तमाचा। यह घटना गुजरात, सुरेंद्र नगर के बढवान में हुई। जूता फेंकने वाले और चांटा रसीद करने वाले इंसान को सबसे पहले तो कार्यक्रम में मौजूद भीड़ ने जम कर धोया फिर कड़ी मशक्कत के बाद भीड़ से बचाकर पुलिस ने उस शख्स को कब्ज़े में लिया।

गुरुवार को बीजेपी नेता और राज्यसभा सदस्य जीवीएल नरसिम्हा राव दिल्ली के बीजेपी दफ्तर में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे तभी उनपर एक शख्स ने जूता फेंका था। जूता कांड की घटना के बाद बीजेपी प्रवक्ता नरसिम्हा राव ने तुंरत कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। हालांकि कार्यक्रम में उपस्थित बीजेपी के कार्यकर्ताओ ने शख्श को पकड़ कर खूब पिटाई की। जूता फेंकने वाले शख्स की पहचान शक्ति भार्गव के रूप में हुई थी, जो कानपुर का रहने वाला था पेशे से वो सर्जन डॉक्टर है। शक्ति भार्गव की मानसिक हालत ठीक नहीं थी। पुलिस ने पूछताछ के बाद उसे कानपुर भेज दिया था।

दूसरी ओर आज शुक्रवार को गुजरात के सुरेंद्र नगर के बढवान में हार्दिक पटेल एक रैली कर रहे थे। वह मंच पर भाषण दे ही रहे थे, तभी एक शख्स आया और उन्हें कुछ कहते हुए एक जोरदार चांटा जड़ दिया। इससे पहले कि दूसरा चांटा हार्दिक पटेल को जड़ पाता, मंच पर मौजूद समर्थकों ने उसे दबोच लिया और उसकी जमकर पिटाई कर दी। इस शख्श का नाम तरुण गज्जर है। सुरेंद्रनगर का ही रहने वाला है। इससे पहले इस शख्श को अक्सर राहुल गाँधी के आसपास देखा गया है। हो सकता है ये किसी कोंग्रेसी के कहने पर ही इस घटना को अंजाम दिया हो। हालांकि पुलिस को दिए कबूल नामे में ये खुद को किसी भी पार्टी का कार्यकर्ता नहीं बता रहा है। हार्दिक पर हमला करने का मकसद भी कोई पुराणी रंजिश बता रहा है। सच्चाई क्या है ये तो पुलिस अनुसंधान के बाद ही पता चल पायेगा अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी।

2009 को तत्कालीन वित्तमंत्री पी. चिदंबरम, 2011 को सुरेश कलमाड़ी, 2016 को कन्हैया कुमार, 2017 को अरविंद केजरीवाल पर जूता फेंका गया था। जूता खाने के मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की किस्मत बहुत खराब रही है। इन पर एक नहीं दो दो बार जूते चल चुके हैं। स्याही भी फेंकी गई और एक ऑटो ड्राइवर ने तो इन्हें चांटा तक मार दिया था। केजरीवाल के पार्टी के ही नेता संजय सिंह को एक महिला कार्यकर्ता ने टिकट बेचने के आरोप में चांटा मारा दिया था।

Spread this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Translate »